एकता के लिए

बन्दिनी दया है बन्द धर्म का है द्वार आज, पापियों की चाल से स्वदेश को बचाईये। एक सारा देश और इसके निवासी एक, एकता का मूल मंत्र सबको पढ़ाइये। भूल एक तुम्हारी शूल न बन जाये कहीं, काला इतिहास नहीं अपना बनाइये। कवि ‘अमरेश’ जो समझ न … Read more

Gulzar Shayari and Gulzar Quotes in Hindi

Gulzar Shayari (गुलज़ार शायरी) दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई जैसे एहसान उतारता है कोई दिल में कुछ यूँ संभालता हूँ गम जैसे जेवर संभालता है कोई आईना देख कर तस्सली हुई हमको इस घर में जानता है कोई पेड़ पर पक गया है फल शायद फिर … Read more

Rahat Indori Sher Shayari with Image (Part 2)

rahat indori sher, rahat indori shayari,  rahat indori shayari images, rahat indori ki shayari, rahat indori shayari in hindi, rahat indori ki shayari in hindi, rahat indori ki shayari image, rahat indori ki best shayari, rahat indori ki latest shayari, rahat indori sad shayari, rahat indori shayari … Read more

Rahat Indori Sher Shayari with Image (Part 1)

दोस्तों Rahat Indori कला की दुनिया का वो नाम है, जिसे हर कोई जानता है Rahat Indori के Sher अपने हर लफ्ज़ के साथ प्यार की एक नयी शुरुवात करते हैं, आज हम आप सभी Rahat Indori जी के Fans के लिए उनके कुछ बहुत ही चुनिन्दा … Read more

जिओ ऐसे जैसे आज ज़िन्दगी का आखरी दिन हो – Motivational Hindi Story

एक समय की बात है एक राज्य में एक महान तलवारबाज़ रहा करता था,उसकी तलवारबाज़ी के चर्चे दूर दूर राज्यों तक फैले हुए थे,उसने राजा को कई लड़ाईयां अकेले अपने दम पर जिताई थी, राजा ने उसे सेनापति की उपाधि दे रखी थी, वो कहते हैं ना … Read more

जो मिला है उसमे ख़ुश रहना सीखो – Inspirational Hindi Story

किसी राज्य में एक राजा रहता था, जिसके पास सब कुछ था और जो वो चाहता, वो उसे मिल जाता वो जो भी आदेश देता वो पूरा होता था एक दिन राजा अपनी सभा को ख़त्म करके महल के दौरे के लिए निकल पड़े राजा साहब ने … Read more

आचार्य चाणक्य की सम्पूर्ण जीवनगाथा हिंदी में

दोस्तों, हमारे भारतवर्ष में बहुत से ऐसे महान लोगों ने जन्म लिया और अपने ज्ञान से अपना नाम इतिहास के पन्नों पर दर्ज कराया, ऐसे ही कुछ ज्ञानवान लोगों की सूची में नाम आता है आचार्य चाणक्य का, जो एक शिक्षक, दर्शनशास्त्री, अर्थशास्त्री और एक शाही सलाहकार … Read more

कुर्सी

कहने को है काठ की कुर्सी माने रखती है, बड़े-बड़े को ये अपने पैताने रखती है। कुर्सी के ही आगे – पीछे दुनिया डोल रही, जिसके पास कुर्सी उसकी तूती बोल रही ।। इसके आगे राजा गिरता रानी गिरती है, कुर्सी की ही खातिर दुनिया लड़ती मरती … Read more

देखो हँस न देना

    अध्यापक : रमेश तुमने कुत्ते पर निबंध क्यों नहीं लिखा ? रमेश : मास्टर जी मैने जैसे ही उस पर कागज रखा वह भाग गया। एक यात्री : गाड़ी रुकने पर दूसरे यात्री के कंधे पर हाथ रखकर, भाई यह कौन सा स्टेशन है। दूसरा … Read more

तुम चाँद नज़र आओ

छुप छुप के घटाओं में, तुम फिर से निकल आओ। बरसात के मौसम में, तुम बूंद में ढल जाओ।। मदहोश मुझे कर दो, दिलोजान पे छा जाओ। दिल रोज़ ये कहता है, तुम चांद नजर आओ। हम रोज तुम्हें देखें, हम दिल के दरीचे से। चढ़कर कभी … Read more